वित्तीय बाजार में कैरियर

पारंपरिक इंजीनियर, डॉक्टर या बैंक कर्मचारी से इतर शेयर बाजार, कमोडिटी मार्केट, प्राइवेट इक्विटी और म्युचुअल फंड का ब्रेन कारोबारियों के साथ-साथ नौकरी करने से इच्छुक को भी पसंद रहा है। स्टॉक मार्केट शब्द जितना छोटा है, कैरियर के लिहाज से इसमें संभावनाएं उतनी ही अधिक हैं। आमतौर पर स्टॉक मार्केट को ट्रेडिंग से ही जोड़कर देखा जाता है। दरअसल ट्रेडिंग के अलावा भी स्टाक मार्केट से जुड़े कई पहलू है। स्टाक मार्केट की नब्ज पहचानने वालों के लिए बाजार अपने दरवाजे खोल रहा है। बड़ी प्राइवेट इक्विटी फार्मस रिसर्चर्स अैर विश्लेषकों को बाजार की चाल समझने के लिए नियुक्त कर रही हैं। अब तक बाजार में संभावनाएं बढ़ रही है तो बाजार के लिए प्रोफेशनल की भी मांग बढ़ रही है। दिल्ली के कैरियर काउंसलर जितिन चावला के मुताबिक स्टाक मार्केट में कैरियर एक बढ़िया विकल्प है। स्टाक मार्केट में आप सिर्फ एक ट्रेडर, बल्कि किसी ब्रोकरेज फर्म में रिलेशनशिप मैनेजर, टेलीकालर या रिसर्च टीम की हिस्सा भी बन सकते है। रिलेशनशिप मैनेजर का काम क्वाइंट्स बनाना है। वे क्लाइंटस की इच्छानुसार उन्हें शेयरों की जानकारी देते है। आज कल सब कुछ आनलाइन होने लगा है, इसलिए टेलीकालर्स की डिमांड भी बाजार में काफी है। आपका पैसा किस कंपनी के शेयर में लगाया जाए, इसके लिए रिसर्च टीम विभिन्न कंपनियों के पोर्टफोलियो की रिसर्च भी करता है। अगर आप चाहें तो स्टाक मार्केट में किसी के साथ काम करने के बाद छोटी इन्वेस्टमेन्ट के साथ अपना काम भी शुरू कर सकते हैं। स्टाक मार्केट के साथ- साथ कमोडिटी मार्केट के साथ-साथ कमोडिटी मार्केट में या म्युचुअल फंडस में अपना काम करने वालों की भी कमी नहीं है। कम इंवेस्टमेन्ट पर आप चाहें तो शेयर मार्केट की आनलाइन साइट्स से ही अपना कारोबार शुरू कर सकते हैं। शेयर बाजार से लंबे समय से जुड़े दिल्ली के एक सब  ब्रोकर वीबी गुप्ता का कहना है कि जब हम मार्केट से जुड़े थे, तब कोई क्वालिफिकेशन जरूरी नहीं थी। अब नेशनल स्टाक एक्सचेंज और बाम्बे स्टाक एक्सचेंज ने अपने ट्रेडर्स के लिए फाइनेन्शियल मार्केट में सर्टिफिकेशन एनसीएफएम के लिए एग्जाम शुरू कर दिया है। अगर आप एनएसई में कारोबार करना चाहते हैं तो आपको बाजार की बेसिक जानकारी वाला यह एग्जाम पास करना होगा। उनकी मानें तो एक सब ब्रोकर ठीक ठाक बाजार में एक दिन में 5, 000 से 10, 000 रुपए तक कमा सकता है। मार्केट बूम की स्थिति में कमाई और भी बढ़ जाती है।
योग्यता- डिप्लोमा कोर्स के लिए:- स्टाक मार्केट में काम के लिए कोई निश्चित योग्यता नहीं है। इसमें 12 वीं के बाद विभिन्न डिप्लोमा कोर्स के जरिए अपना भविष्य बना सकते है।
पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स के लिए- स्टाक मार्केट के साथ-साथ फाइनेंशियल और कैपिटल मार्केट को जानने के लिए आज कई पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्सेज उपलब्ध है। इनमें प्रवेश की योग्यता 12 वीं के साथ-साथ किसी भी विषय में ग्रेजुएशन है। एमबीए कोर्स के लिए- एमबीए में प्रवेश के लिए ग्रेजुएशन के साथ-साथ फाइनेंशियल मार्केट में कम से कम दो वर्षों के अनुभव लिए हुए छात्रों को प्राथमिकता मिलती है। कोर्सेज-ह्व डिप्लोमा इन स्टाक मार्केट ट्रेडिंग, सर्टिफाइड फाइनेंशियल प्लानर सीएफपी सर्टिफिकेशनपोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन एडवांस फाइनेंशियल प्लानिंग एंड वेल्थ मैनेजमेंट। पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन कैपिटल मैनेजमेंट।  एमबीए इन कैपिटल मार्केट्स। 
सभी डिप्लोमा या सर्टिफिकेट कोर्स की अवधि तीन माह और उससे अधिक, पोस्ट ग्रेजुएट्स डिप्लोमा कोर्स की अवधि एक साल एमबीए प्रोग्राम की अवधि दो साल है।
पत्राचार कोर्सेज- नौकरी करने वालों के लिए भी कई बिजनेस स्कूल पत्राचार कोर्सेज चला रहे हैं।
 वेलिंग्कर इंस्टीटयूट ऑफ मैनेजमेंट डेवलपमेंट एंड रिसर्च, माटुंगा मुंबई, डिप्लोमा इन कमोडिटीज मार्केट। अवधि तीन महीने।

 इंडियन इंस्टीटयूट ऑफ फाइनेंशियल प्लानिंग आईआईएफपी कनाट प्लेस, दिल्ली सर्टिफाइड फाइनेंशियल प्लानिंग। अवधि-6 महीने।

एनएमआईएमएस, मुंबई, महाराष्ट्र डिप्लोमा इन फाइनेंशियल मैनेजमेंट। अवधि एक वर्ष। पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन फाइनेंशियल मैनेजमेंट अवधि-दो वर्ष।
संभावनाएं
स्टाक मार्केट ट्रेडिंग कोर्स- इस कोर्स के साथ आप किसी भी इक्विटी फर्म या आनलाइन ब्रोकरेज फर्म के साथ अपना कारोबार कर सकते हैं।
पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स- स्टाक मार्केट के बेसिक से आगे बढ़ने और बाजार की बारीकियां को व्यवहारिक तौर पर समझाने के लिए वित्तीय बाजार संबंधित विभिन्न पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स किए जा सकते हैं। अगर आप किसी भी विषय में ग्रेजुएट हैं और प्राइवेट इक्विटी फंड, म्युचुअल फंड, मुद्रा विनिमय कारोबार, डेरिवेटिव्स, कमोडिटी मार्केट में विशेषज्ञता हासिल करनाचाहते हैं तो इस कोर्स से आपको इन क्षेत्रों की ओर बारीक जानकारी मिलेगी।
एमबीए कैपिटल मार्केट-
इस कोर्स के बाद प्रमुख फाइनेंशियल फील्डस जैसे इक्विटी, कमाडिटी मार्केट मुद्रा विनिमय और डेरिवेटिव्स में ढेरों संभावनाएं हैं, इसके साथ बैंक, ट्रेजरी, या कारपोरेट में ट्रेडिंग, इंवेस्टमेंट बैंक में आईपीओ या एमएंडए के लिए रिसर्चर या एडवाइजर पेंशन फंडस, हेज फंडस और म्युचुअल फंड्स में काम कर सकते हैं।
कंपनी सेकेट्री (सीएस कोर्स)- नये नियमों के मुताबिक बाजार से जुड़ी कंपनियों को एक सीएस नियुक्त करना अनिवार्य है। इसके चलते सीएस पढ़ने वाले भी इस तरफ का रेयर बना सकते हैं।
प्रमुख संस्थान-ह्व बीएलबी इंस्टीटयूट ऑफ फाइनेंशियल मार्केट्स बीआईएफएम गुलाब भवन, चौथी मंजिल, 6 बहादुर शाह जफर मार्ग, नयी दिल्ली-1100021 फोन- 01-43702201-02  
  इंडियन इंस्टीटयूट ऑफ फाइनेंशियल प्लानिंग (आईआईएफपी) 6 , आत्माराम हाउस, 1 टालस्टाय मार्ग, कनाटप्लेस, नयी दिल्ली- 110001  

 निरमा यूनिवर्सिटी इंस्टीटयूट ऑफ मैनेजमेंट। सारखेज-गांधी नगर हाईवे पोस्ट चंदलोडिया, वाया गोटा, अहमदाबाद, 382481, गुजरात। फोन- 02717-241900-04

 नारसी मांजी इंस्टीटयूट ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज एनएमआईएमएस एसबीकेएम, एनएमआईएमएस  यूनिवर्सिटी, वीएल मेहता रोड, जेवीपीडी, वीएल मेहता रोड, जेवीपीडी स्क्रीम मुंबई, महाराष्ट्र-400056, फोन-022-261836881 

इंस्टीटयूट ऑफ कंपनी सेक्रेटरीज ऑफ इंडिया, आईसीएसआई हाउस, 22, इंडस्ट्रियल एरिया, लोदी रोड, नयी दिल्ली-110003 फोन-011-41504444

Popular posts from this blog

जैव प्रौद्योगिकी में कैरियर

वनस्पति में करियर