Posts

Showing posts from 2016

रिहैबिलिटेशन थेरेपी में करियर

जो लोग मेडिकल फील्ड में करियर बनाने के साथ-साथ समाज के लिए भी कुछ करना चाहते हैं, वे रिहैबिलिटेशन थेरेपिस्ट के रूप में इस सफर की शुरुआत कर सकते हैं। आज इंडिया में जिस तरह से स्पोर्ट्स इंजरीज, आर्थराइटिस, स्ट्रोक, सेरिब्रल पाल्सी, ट्रॉमेटिक ब्रेन सर्जरी, स्पाइनल कॉर्ड इंजरी आदि के मामले बढ़ रहे हैं, उन्हें देखते हुए हेल्थकेयर सेक्टर में एक्सपर्ट्स या स्पेशलिस्ट मेडिकल प्रोफेशनल्स की मांग में भी तेजी आई है मसलन-फिजियोथेरेपिस्ट, स्पीच थेरेपिस्ट, ऑक्यूपेशनलिस्ट आदि। लेकिन इनमें अगर रिहैबिलिटेशन थेरेपिस्ट की बात करें, तो वह मरीजों को संपूर्ण रूप से किसी भी तरह के ट्रॉमा से निकालने में मददगार साबित होते हैं।
बेसिक स्किल्स
एक सक्सेसफुल रिहैबिलिटेशन थेरेपिस्ट बनने के लिए युवाओं के पास धैर्य के साथ-साथ अच्छी कम्युनिकेशन और एनालिटिकल स्किल होनी जरूरी है। इसके अलावा, एकेडमिक और रिसर्च बैकग्राउंड भी स्ट्रॉन्ग होना चाहिए। कैंडिडेट को मोटिवेटेड भी होना होगा। उन्हें स्पीच थेरेपिस्ट, रिहैबिलिटेशन काउंसलर आदि से तालमेल रखना आना चाहिए।
एजुकेशनल क्वालिफिकेशन
रिहैबिलिटेशन थेरेपिस्ट बनने के लिए…

फिलॉसफी के कोर्स

फिलॉसफी के क्षेत्र में वेतनमान ऊंचाइयां छूता है। टीचिंग के क्षेत्र में एक असिस्टेंट प्रोफेसर 30000 रुपए प्रतिमाह से ऊपर वेतनमान प्राप्त करता है। इसके अलावा एक प्रोफेसर 80000 रुपए प्रतिमाह प्राप्त करता है। आरकेएमवी शिमला में हर वर्ष 60 छात्राएं यह कोर्स करके निकल रही हैं। हिमाचल में इस समय 50 से अधिक लोग इस क्षेत्र से जुड़े हैं… फिलॉसफीएक वैज्ञानिक विषय है, जिसमें सच्चाई और वास्तविकता के कारणों का पता लगाने के लिए तर्क का प्रयोग किया जाता है। एक व्यक्ति जो फिलॉसफी सीखता है, उसे फिलॉस्फर कहा जाता है और यह जीवन भर सीखी जाने वाली प्रक्रिया है। जिन्हें मेटाफिजिक्स, लॉजिक, रेशनलिज्म आदि में रुचि है, फिलॉसफी उन बुद्धिजीवियों के लिए यह उचित प्रोफेशन है। फिलॉसफी दूसरे विषयों की तरह नहीं है। दूसरी कई अकादमिक शिक्षा छात्रों को एक बेहतर कैरियर बनाने के लिए प्रदान करवाई जाती है, लेकिन फिलॉसफी इन सबसे अलग है। यह कोई ट्रेनिंग नहीं है, बल्कि जीवन भर सीखने वाली शिक्षा है। यदि आपकी रुचि इस क्षेत्र में है, तो यह एक बेहतर कैरियर विकल्प बन सकता है। फिलॉसफी की कुछ उप शाखाएं हैं, जिनमें से किसी एक को चुनकर आ…

वॉटर साइंस में करियर

जल का महत्व अब पहले से कहीं ज्यादा बढ़ गया है। एक ओर जहां यह जीवन देता है, वहीं दूसरी ओर कॅरियर के लिए भी यह कई तरह से उपयोगी बन गया है। कॅरियर के रूप में जल का महत्व शुद्ध पानी (फ्रेश वाटर) के लिए भी बढ़ा है और मेरिन वाटर लाइफ (समुद्री जल-जीवन) के लिए भी। इसी का अध्ययन एक्वाकल्चर कहलाता है। एक्वाकल्चरिस्ट तालाब, झील, नहर या समुद्र के इर्द-गिर्द काम करता है। विषय का स्वरूप
जल की उपलब्धता, जल प्रदूषण आदि विषय इसके तहत आते हैं। फ्रेश वाटर और समुद्री जीव-जंतुओं के पालन-पोषण और उनके संरक्षण से संबंधित बातें भी इसमें शामिल हैं। मछलियों के पालन-पोषण, संरक्षण, उत्पादन और कारोबार से जुड़ी बातें भी इसके अंतर्गत आती हैं। उपयोगी जलीय वनस्पतियों से भी इस विषय का संबंध है। एक्वाक्ल्चर के अध्ययन का मुख्य उद्देश्य इससे संबंधित वस्तुओं को मानव जीवन के लिए उपयोगी बनाना है। इसके तहत जीव-जंतुओं के सामान्य आहार के अलावा दवाओं और अन्य आवश्यक चीजों के बारे में भी जानकारी दी जाती है। जलीय जीव-जंतुओं और पौधों की नस्लों को बेहतर बनाने की कोशिश भी इसमें की जाती है, जिसके लिए विभिन्न तकनीकों का इस्त…

एग्रीकल्चर में करियर

कृषि से आपको लगाव है लेकिन किसी वजह से इस क्षेत्र में आने से संकोच कर रहे हैं, तो आप नए व आधुनिक तरीके से नकदी फसलों की खेती कर कृषि उत्पादों की बेहतर मार्केटिंग व निर्यात करते हुए आकर्षक मुनाफे के साथ-साथ कृषि क्षेत्र और अपने करियर को एक बेहतर आयाम दे सकते हैं...
भारत आज भी एक कृषि प्रधान देश है, लेकिन ऐसा नहीं है कि कृषि केवल पारंपरिक किसानों के लिए ही है। आज के युवा भी आधुनिक तरीके से खेती करके या एग्रीकल्चर से जुड़े काम करके अच्छे पैसे कमा सकते हैं। वैज्ञानिक तरीके से ऐसी खेती करने से आत्म-सम्मान के साथ-साथ समाज में एक अलग पहचान और बेहतर मुनाफे के रास्ते भी खुले हैं। देश की काफी बड़ी आबादी आज भी कृषि क्षेत्र से ही रोजगार पाती है। कृषि क्षेत्र में मौजूद विकास की व्यापक संभावनाओं को भांपते हुए आईटीसी, मोनसेंटो और रिलायंस जैसी बड़ी कंपनियां इस क्षेत्र में उतर चुकी हैं। फसलों से जुड़े शोध कार्यक्रमों में भी कृषि विशेषज्ञों की मांग तेजी से बढ़ रही हैं। ऐसे में इस कृषि क्षेत्र को अपना करियर विकल्प चुनकर मित्र्ी की खुशबू के साथ रहते हुए अपने करियर को सुगंधित कर सकते हैं। पढ…

पर्यावरण इंजीनियरिंग और जैविक में स्नातक

प्रयोगशाला में और बगल में वास्तविक स्थितियों के साथ लगातार संपर्क भी शामिल है कि एक पाठ्यक्रम और पाठ्यक्रम के द्वारा समर्थित एक ठोस, सांस्कृतिक, वैज्ञानिक और तकनीकी प्रशिक्षण प्रदान करते हैं। इस चक्र के प्रारूप उत्कृष्ट कैरियर के अवसरों के लिए कौशल की एक विविध सेट के विकास पर आधारित है और स्नातकोत्तर और मास्टर की पढ़ाई को आगे बढ़ाने के लिए। लक्ष्य पर्यावरण और जैव इंजीनियरिंग के कोर्स के लिए एक प्रारंभिक चरण, गणित, रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान की बुनियादी विज्ञान के क्षेत्र में सैद्धांतिक और व्यावहारिक ज्ञान के एक विस्तार पर अपने स्नातकों प्रदान करता है। बाद के चरणों में, प्रशिक्षण पर्यावरण और जैव प्रौद्योगिकी के क्षेत्रों के विभिन्न आयामों की अनिवार्य और वैकल्पिक प्रकृति के साथ काम कर एक तेजी से विशिष्ट प्रकृति का फायदा हुआ। , लेकिन यह भी प्राकृतिक संसाधनों, बेकार, जैव ईंधन और पर्यावरणीय प्रभाव की समस्या के लिए हवा, पानी और मिट्टी - पर्यावरण के संदर्भ में, यह तीन क्लासिक डिब्बों को शामिल किया गया। जैव प्रौद्योगिकी में जोर आनुवंशिक और एंजाइम इंजीनियरिंग, जैव प्रौद्योगिकी …

एमएससी रसायन इंजीनियरी

एमएससी केमिकल इंजीनियरिंग पाठ्यक्रम अतिरिक्त प्रशिक्षण कंपनियों को अब उद्योग के भविष्य के नेताओं के होने की रासायनिक इंजीनियरों की अगली पीढ़ी से उम्मीद है, की क्षमता के साथ बेहद सक्षम स्नातकों का उत्पादन करता है। पाठ्यक्रम रासायनिक इंजीनियर्स संस्थान (IChemE) द्वारा मान्यता प्राप्त है और ब्रिटेन कल्पना जो पहले से ही एक BEng, बीएससी या गैर मान्यता प्राप्त केमिकल इंजीनियरिंग की डिग्री पकड़ उन छात्रों के लिए IChemE की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए बनाया गया है और चार्टर्ड स्थिति के लिए आगे बढ़ना चाहते हैं । आप उन्नत इंजीनियरिंग अभ्यास है, जो डिजाइन, संचालन, समस्या सुलझाने और व्यावहारिक तत्व शामिल हैं में कौशल हासिल करेंगे। उन्नत अभ्यास ऊर्जा और पर्यावरण अनुप्रयोगों में विषयों पर केंद्रित है, ताकि आप भी इस तरह के पेट्रोलियम संसाधन, ऊर्जा दक्षता, कार्बन को पकड़ने और पानी के उपचार जैसे क्षेत्रों में महत्वपूर्ण अनुभव हासिल कर सकते हैं। इस कोर्स भी नॉटिंघम विश्वविद्यालय के मलेशिया कैम्पस में सिखाया जाता है। मुख्य तथ्यउद्योग के लिए प्रासंगिक शिक्षण स्टाफ की एक उच्च अनुपात चार्ट…

मैथमेटिकल में करियर

गणित मनुष्य के ज्ञान की एक उपयोगी व आकर्षक शाखा है। गणित एक मान्यताप्राप्त व्यावसायिक करियर है। भारत में छात्रों द्वारा करियर के रूप में चुना जाने वाला एक प्रमुख विषय है। इसमें अध्ययन के कई आयाम सम्मिलित हैं...
मैथमेटिक्स शब्द की व्युत्पत्ति एक ग्रीक शब्द से हुई है, जिसका अर्थ है ′अध्ययन के प्रति झुकाव′। मैथमेटिक्स (गणित) की एक सर्वमान्य परिभाषा देना यद्यपि काफी कठिन है, तथापि इसे मोटे तौर पर संख्याओं तथा प्रतीकों द्वारा अभिव्यक्ति, मात्रा, उनके संबंध, परिचालन एवं मापन के रूप में परिभाषित किया जा सकता है। यदि हम साधारण बोलचाल की भाषा में कहें तो गणित संख्याओं तथा उनकी विभिन्न गणनाओं के अध्ययन से संबंधित है। सावधानीपूर्वक विश्लेषण करना तथा तर्क देना गणित के अत्यधिक महत्वपूर्ण कौशल हैं। गौरतलब है कि गणित उतना ही प्राचीन है जितनी कि हमारी सभ्यता। गणित मनुष्य के ज्ञान की एक अत्यधिक उपयोगी तथा आकर्षक शाखा है। इसमें अध्ययन के कई आयाम सम्मिलित हैं। गौरतलब है कि गणित एक मान्यताप्राप्त व्यावसायिक करियर है तथा भारत में छात्रों द्वारा करियर के रूप में चुना जाने वाला एक प्रमुख विषय…

मेकाट्रॉनिकी (यांत्रिक इंजीनियरी) में करियर

मेकाट्रॉनिकीयांत्रिक इंजीनियरी के विद्युत तथा इलेक्ट्रॉनिक के बारे में होती है। सामान्य शब्दों में यह इलेक्ट्रॉनिकी एवं कम्प्यूटर प्रणाली द्वारा नियंत्रित यांत्रिक प्रणालियों के निर्माण से संबंधित है। मेकाट्रॉनिकी प्रासंगिक रूप में इंजीनियरी की एक नई शाखा है, जो कई क्षेत्रों में व्यापक रूप से स्वीकार की जा रही है। यह विद्युत इंजीनियरी इलेक्ट्रॉनिकी। अंतरविषयीय विज्ञान है। मेकाट्रॉनिकी का उद्देश्य अभिज्ञ प्रणालियों को सरल, उपयोग के लिए बनाना है।
औद्योगिक रोबोटिक्स मेकाट्रॉनिकी प्रणाली एक शानदार उदाहरण है। वास्तव में मेकाट्रॉनिकी का अनुप्रयोग विभिन्न उपकरणों के आंतरिक कार्य पर मोबाइल फोन से लेकर वाशिंग मशीनों, रासायनिक संयंत्र मशीनरी, पॉवर जेनरेटर, ऑटो-फोकस कैमरा एवं रोबोट पर प्रदर्शित होता है।
मेकाट्रॉनिकी का अनुप्रयोग 
मेकाट्रॉनिकी इंजीनियर बढ़ी हुई कार्य क्षमता के साथ हाइब्रिड प्रणालियों-यांत्रिक प्रणालियों के डिजाइन के लिए जिम्मेदार होते हैं। वे अपने ज्ञान का यांत्रिक, इलेक्ट्रॉनिकी, कम्प्यूटर विज्ञान में प्रयोग करते हैं और विभिन्न उद्योगों के उत्पादों, प्रोसेस तथा सेवाओं…

सिस्मोलॉजी इंजीनियरिंग में करियर

नई दिल्ली:जब हम अपनी स्कूल की पढ़ाई खत्म करने के बाद कॉलेज में दाखिला लेने की सोचते है तो बहुत कम लोगों को पता होता है कि उन्हें आगे क्या करना हैं।बच्चे अपने मां बाप के कहने पर किसी कोर्स में दाखिला ले लेते है लेकिन कॉलेज की पढ़ाई खत्म होने के बाद भी उन्हें नौकरी नहीं मिलती । इसलिए हम आपको बता रहे है कुछ एेसे कोर्स के बारे में। सिस्मोलॉजी इंजीनियरिंग इंजीनियरिंग की एक ऐसी ब्रांच है जिसके बारे में कम ही लोग सोचते हैं।लेकिन करियर के लिहाज से देखें तो इस क्षेत्र में जॉब की अपार संभावनाएं हैं। इस फील्ड में नौकरियां बहुत तेजी से बढ़ रही हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक इस क्षेत्र में जितने प्रोफेशनल्स की मांग है उससे लगभग आधी संख्या में ही इस फील्ड के विशेषज्ञ इस समय हैं। क्या है सिस्मोलॉजी वैसे तो अर्थक्वेक इंजीनियरिंग यानी सिस्मोलॉजी को इंजीनियरिंग का एक बहुत पुराना हिस्सा हैं। पहले सिस्मोलॉजी की तरफ युवाओं का ज्यादा ध्यान नहीं था, लेकिन हाल के दिनों में पृथ्वी की प्लेटों में बढ़ती हलचलों, भूकंप संबंधित क्षेत्रों में हो रहे विस्तार ने लोगों का ध्यान इस फील्ड की तरफ काफी खीचा हैं। क्योंकि भूकंप से …