Posts

Showing posts from September, 2017

एकाउंटिंग में बनाए अपना करियर

एकाउंटिंग आज के दौर में बेहद डिमांडिंग फील्ड बन गया है। उदारीकरण के दौर में देश में निजी कंपनियों के विस्तार और बहुराष्ट्रीय कंपनियों के आगमन से सीए, आइसीडब्ल्यूए, सीएस, कंप्यूटर एकाउंटेंसी के एक्सप‌र्ट्स की मांग लगातार बढ़ती जा रही है। एकाउंटिंग एक ऐसा क्षेत्र है जिसमें आपका करियर ग्राफ तेजी से बढ़ता है। वैसे तो ज्यादातर कॉमर्स के स्टूडेंट्स ही एकाउंटिंग के क्षेत्र में जाना चाहते हैं, लेकिन दूसरे स्ट्रीम के स्टूडेंट्स के लिए भी इसके रास्ते खुले हुए हैं। जानते हैं इससे संबंधित कुछ प्रमुख क्षेत्रों और उनमें एंट्री के बारे में :
सीए
सीए का मतलब है चार्टर्ड एकाउंटेंट। चार्टर्ड एकाउंटेंट ऑडिटिंग, टैक्सेशन और एकाउंटिंग में स्पेशलाइजेशन रखता है। सीए प्रोफेशन निरंतर लोकप्रिय होता जा रहा है। यहां तक कि छोटी कंपनियों और कारोबारियों को भी अपने आर्थिक मसलों के प्रबंधन के लिए सीए की जरूरत होती है। भारतीय चार्टर्ड एकाउंटेंट्स की तो अब विदेशों में भी अच्छी मांग है, खासकर पश्चिम एशिया के देशों, ऑस्ट्रेलिया और सिंगापुर में।
कंपनी अधिनियम के अनुसार भारत में किसी कंपनी में ऑडि¨टग के लिए…

कोरियोग्राफर में करियर

डांस सिखाना यानि कोरियोग्राफर बनना आज कल युवाओं की पसंद बन रहा है.यह एक पैसा और नाम देने वाला करियर है और फिल्म इंडस्ट्री में अच्छे कोरियोग्राफर की डिमांड रात दिन बढ़ती जा रही है.लेकिन इसमें करियर बनाने की सोचने से पहले यह जान लें की कोरियोग्राफी केवल डांस करना ही नहीं है बल्कि दूसरों को नए तरह का डांस सिखाना है. इसलिए सब तरह के डांस, डांसिंग स्टेप्स और डांस को हर तरह के म्यूजिक पर डांस कर सकना ही कोरियोग्राफी है. चलिए जाने डांस मैं करियर कैसे करे कोरियोग्राफर कैसे बने.
कोरियोग्राफर कैसे बने: कुछ लोगो को बचपन से ही डांस करने का बहुत शौक होता हैं. ऐसे लोग बचपन से डांस सीखते हैं या ऐसे भी उन् लोगो को बहुत अच्छा डांस आता. जो लोग डांस में माहिर होते हैं उन् लोगो के घर में भी बहुत सारे डांस कम्पटीशन’से  जीती हुई ट्रॉफीज होती हैं. ऐसे लोग बढ़े होकर भी अपनी डांस को कंटिन्यू रखना चाहते हैं और डांस मैं अपना करियर बनाना चाहते हैं. लेकिन जिन लोगो को यह अच्छी तरह से पता ही नहीं होता कि उन्हें डांस में करियर बनाने के लिए क्या क्या करने की ज़रूरत हैं उन् लोगो का सपना तो अधूरा ही रह जाता ह…

फूड साइंस और न्यूट्रिशन में करियर

संतुलित डाइट के महत्व से तो हर कोई वाकिफ है लेकिन अपनी उम्र, शारीरिक क्षमता, कार्य की प्रकृति और दैनिक रुटीन के हिसाब से डाइट कैसी होनी चाहिए, इसको लेकर अध‍िकांश लोग भ्रमित रहते हैं। सही डाइट से जुड़ी हमारी शंकाएं दूर करते हैं डायटीशियन और न्यूट्रिशनिस्ट। अगर आप हेल्दी लाइफस्टाइल के साथ रोमांचक करियर चाहते हैं, तो यह फील्ड आपके लिए बढ़िया है।
लोगों की बदली जीवनशैली और खानपान की खराब आदतों का सबसे ज्यादा असर उनके स्वास्थ्य पर पड़ता है। इसीलिए हाल के दिनों में लोगों के बीच बैलेंस्ड डाइट को लेकर जागरूकता बढ़ी है। हालांकि बैलेंस्ड डाइट व्यक्ति विशेष की अपनी जरूरतों पर आधारित होती है, इसीलिए इसे लेकर लोगों में अक्सर भ्रम भी रहता है। इसी भ्रम को दूर करके फूड न्यूट्रिएंट्स के हिसाब से हमें सुझाव देते हैं डायटीशियन और न्यूट्रिशनिस्ट। अगर आपको भी फूड साइंस और न्यूट्रिशन में रुचि है, तो आप इसमें करियर प्लान कर सकते हैं।

क्या है न्यूट्रिशन एंड डायटेटिक्स?
यह फूड साइंस से जुड़ा एक ऐसा कोर्स है, जिसमें फूड न्यूट्रिएंट्स के बारे में अध्ययन किया जाता है। इसी के आधार पर बड़े स्तर पर लोगों मे…

कॉफी क्वॉलिटी मैनेजमेंट में पीजी डिप्लोमा

कॉफी दुनिया के सबसे लोकप्रिय पेय में एक हैं। इसकी लोकप्रियता को बनाए रखने के लिए इसकी गुणवत्ता पर काफी जोर दिया जाता है। ऐसे में कॉफी क्वॉलिटी के क्षेत्र में करियर बनाने के अच्छे मौके भी मिलते हैं।

कॉफी के क्षेत्र में करियर बनाने की इच्छा रखने वालों के लिए भारत के कॉफी बोर्ड ने पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स लॉन्च किया है। इसके छात्रों को भारतीय कॉफी कंपनियों में अच्छी नौकरियों के अवसर मिलते हैं।

कॉफी क्वॉलिटी मैनेजमेंट में पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा  कोर्स छात्रों को कॉफी टेस्टर्स  के रूप में उनकी क्षमता विकसित करने में मदद करता है।

कोर्स की खास बातें
- यह 12 महीने का कोर्स है जो 3 ट्राइमेस्टर में होता है।

- छात्रों को पहले ट्राइमेस्टर में सीसीआरआई, बलेहोनुर, चिकमंगलूर में रहने की सुविधा मिलती है। दूसरे और तीसरे ट्राइमेस्टर के लिए छात्रों के बेंगलुरु में अपने रहने की व्यवस्था स्वयं करनी होगी।

- दाखिले हर योग्य अभ्यर्थी के लिए खुले हैं। कॉफी इंडस्ट्री के लिए स्पॉन्सर्ड अभ्यर्थियों को भी दाखिले दिए जाएंगे।

- दाखिले अकादमिक रिकॉर्ड, पर्सनल इंटरव्यू और सेंसरी इवैल्यूएशन टेस्ट के आधार पर होंगे…

कोशिकाओं की आणविक जीव विज्ञान में पीएचडी

डॉक्टरेट कार्यक्रम 'कोशिकाओं की आणविक जीव विज्ञान "न्यूरोसाइंसेस और आण्विक बायोसाइंसेज के लिए गौटिंगेन ग्रेजुएट स्कूल (GGNB) के एक सदस्य है। यह आणविक बायोसाइंसेज के लिए गौटिंगेन केंद्र (GZMB) द्वारा आयोजित किया जाता है और गौटिंगेन विश्वविद्यालय, biophysical रसायन विज्ञान, प्रायोगिक चिकित्सा के लिए मैक्स प्लैंक इंस्टीट्यूट के लिए मैक्स प्लैंक इंस्टीट्यूट, और जर्मन प्राइमेट सेंटर द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित किया जाता है।

शोध उन्मुख कार्यक्रम और अंग्रेजी में सिखाया जाता है, जो जैव विज्ञान, रसायन विज्ञान, भौतिक विज्ञान, चिकित्सा के क्षेत्र में एक मास्टर की डिग्री (या समकक्ष), या संबंधित क्षेत्रों रखने वाले छात्रों के लिए खुला है।

कार्यक्रम है जो कोशिकाओं के अध्ययन के लिए उत्साह का हिस्सा पिछले शिक्षा के विभिन्न क्षेत्रों से छात्रों को स्वीकार करता है। प्रशिक्षण कैसे सेल भाग्य और टोपोलॉजी निर्धारित कर रहे हैं की एक तुलनात्मक समझ प्राप्त करने के उद्देश्य से है, कैसे व्यापक जीनोमिक विश्लेषण उपकरणों को लागू करने का एक महत्वपूर्ण भावना, और स्थापित करने और सेलुलर कार्…

पोषाहार विज्ञान में विज्ञान स्नातक

पोषाहार विज्ञान में विज्ञान के ऑनर्स बैचलर पोषाहार विज्ञान वास्तव में एक अंतःविषय प्रकृति के अध्ययन के एक रोमांचक और चुनौतीपूर्ण क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करता है। स्वास्थ्य और रोग में अपनी भूमिका पर पोषण के प्रभाव को समझना (पोषक तत्व आवश्यकताओं और उपयोग) शामिल चयापचय की प्रक्रिया का ज्ञान पर आधारित है, में एकीकृत सामाजिक और व्यवहार कारकों में से खाद्य पदार्थों के रसायन शास्त्र (खाद्य संरक्षण, खाद्य उत्पादन) और की उचित पोषण के माध्यम से इष्टतम स्वास्थ्य प्राप्त करने के लिए राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय लक्ष्यों के विचार।
प्रमुख कार्यक्रम पोषाहार विज्ञान में एक मेजर को प्राप्त करने के लिए, छात्र विज्ञान की एक चार साल ऑनर्स बैचलर (Hon.B.Sc.) के लिए आवश्यक 20 पाठ्यक्रमों में से आठ को परिभाषित करता है, जो अध्ययन के एक कार्यक्रम इस प्रकार है। कार्यक्रम में परिभाषित नहीं अन्य पाठ्यक्रमों के लिए, छात्र व्यक्तिगत रुचि और कैरियर के लक्ष्यों द्वारा निर्देशित किया जाना चाहिए। उदाहरण के लिए, पोषण जैव रसायन में एक स्नातक की डिग्री का पीछा पर एक छात्र के इरादे अधिक उपयुक्त अर्थशास्त्र या व्…

पर्यावरण इंजीनियरिंग और जैविक में स्नातक

Image
प्रयोगशाला में और बगल में वास्तविक स्थितियों के साथ लगातार संपर्क भी शामिल है कि एक पाठ्यक्रम और पाठ्यक्रम के द्वारा समर्थित एक ठोस, सांस्कृतिक, वैज्ञानिक और तकनीकी प्रशिक्षण प्रदान करते हैं। इस चक्र के प्रारूप उत्कृष्ट कैरियर के अवसरों के लिए कौशल की एक विविध सेट के विकास पर आधारित है और स्नातकोत्तर और मास्टर की पढ़ाई को आगे बढ़ाने के लिए। लक्ष्य पर्यावरण और जैव इंजीनियरिंग के कोर्स के लिए एक प्रारंभिक चरण, गणित, रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान की बुनियादी विज्ञान के क्षेत्र में सैद्धांतिक और व्यावहारिक ज्ञान के एक विस्तार पर अपने स्नातकों प्रदान करता है। बाद के चरणों में, प्रशिक्षण पर्यावरण और जैव प्रौद्योगिकी के क्षेत्रों के विभिन्न आयामों की अनिवार्य और वैकल्पिक प्रकृति के साथ काम कर एक तेजी से विशिष्ट प्रकृति का फायदा हुआ। , लेकिन यह भी प्राकृतिक संसाधनों, बेकार, जैव ईंधन और पर्यावरणीय प्रभाव की समस्या के लिए हवा, पानी और मिट्टी - पर्यावरण के संदर्भ में, यह तीन क्लासिक डिब्बों को शामिल किया गया। जैव प्रौद्योगिकी में जोर आनुवंशिक और एंजाइम इंजीनियरिंग, जैव प्रौद्योगिकी …

मैथमेटिकल में करियर

गणित मनुष्य के ज्ञान की एक उपयोगी व आकर्षक शाखा है। गणित एक मान्यताप्राप्त व्यावसायिक करियर है। भारत में छात्रों द्वारा करियर के रूप में चुना जाने वाला एक प्रमुख विषय है। इसमें अध्ययन के कई आयाम सम्मिलित हैं...
मैथमेटिक्स शब्द की व्युत्पत्ति एक ग्रीक शब्द से हुई है, जिसका अर्थ है ′अध्ययन के प्रति झुकाव′। मैथमेटिक्स (गणित) की एक सर्वमान्य परिभाषा देना यद्यपि काफी कठिन है, तथापि इसे मोटे तौर पर संख्याओं तथा प्रतीकों द्वारा अभिव्यक्ति, मात्रा, उनके संबंध, परिचालन एवं मापन के रूप में परिभाषित किया जा सकता है। यदि हम साधारण बोलचाल की भाषा में कहें तो गणित संख्याओं तथा उनकी विभिन्न गणनाओं के अध्ययन से संबंधित है। सावधानीपूर्वक विश्लेषण करना तथा तर्क देना गणित के अत्यधिक महत्वपूर्ण कौशल हैं। गौरतलब है कि गणित उतना ही प्राचीन है जितनी कि हमारी सभ्यता। गणित मनुष्य के ज्ञान की एक अत्यधिक उपयोगी तथा आकर्षक शाखा है। इसमें अध्ययन के कई आयाम सम्मिलित हैं। गौरतलब है कि गणित एक मान्यताप्राप्त व्यावसायिक करियर है तथा भारत में छात्रों द्वारा करियर के रूप में चुना जाने वाला एक प्रमुख विषय…