Sunday, April 23, 2023

बीएससी इंटेरिओर डिज़ाइन

बीएससी इंटीरियर डिजाइन एक दूसरे को बताने या अभिव्यक्ति करने के लिए विभिन्न माध्यमों का उपयोग करके किसी विन्यास को विशेष ढंग से विकसित करने की कला है। इसके अंतर्गत स्थान, आकार, रंग, सामग्री और उपकरण का चयन, आवास, व्यापारी, निर्माण, औद्योगिक या अन्य स्थानों के लिए अलग-अलग प्रयोग में आने वाले सुविधाओं को विस्तृत ढंग से विकसित करने का काम किया जाता है।

 

बीएससी इंटीरियर डिजाइन कोर्स एक तीन वर्षीय स्नातक कोर्स होता है जो इंटीरियर डिजाइन, इंटीरियर डेकोरेशन, फर्नीचर डिजाइन, ग्राफिक डिजाइन और अन्य क्षेत्रों में अध्ययन करने के लिए डिजाइन संस्थानों द्वारा प्रदान किया जाता है।

 

इस कोर्स में छात्रों को विभिन्न विषयों में शिक्षा दी जाती है जैसे कि रंग थ्योरी, इंटीरियर डिजाइन इतिहास, फर्नीचर डिजाइन, ग्राफिक डिजाइन, इंटीरियर स्थापत्य, आदि।

संबंधित मुद्दों पर भी जानकारी दी जाती है, जैसे कि विनियामक नियम, संरचना और अंतरिक्ष विन्यास की विशेषताएं। इसके अलावा, इस कोर्स में छात्रों को इंटीरियर डिजाइन संस्थाओं और उद्योग में स्थानों पर व्यावसायिक अनुभव का भी मौका मिलता है।

 

इस कोर्स के अंतिम सत्र में, छात्रों को एक अंतिम परियोजना पूरी करनी होती है, जिसमें वे अपनी आवश्यकताओं और उनके ग्राहकों की आवश्यकताओं के आधार पर एक इंटीरियर डिजाइन का विकल्प पेश करते हैं।

 

बीएससी इंटीरियर डिजाइन के उद्देश्यों में से एक है कि छात्रों को अच्छी तरह से तैयार करें ताकि वे विभिन्न स्थानों के लिए आकर्षक, फंटास्टिक और उपयोगी इंटीरियर डिजाइन विकसित कर सकें।

 

इस रोजगार क्षेत्र में शिक्षित छात्रों के लिए कुछ कैरियर विकल्प हैं जैसे कि इंटीरियर डिजाइनर, इंटीरियर डेकोरेटर, फर्नीचर डिजाइनर, इंटीरियर स्थापत्यकार, उत्पाद डिजाइनर, संस्थान डिजाइनर

बीएससी इंटीरियर डिजाइन कोर्स में छात्रों को इंटीरियर डिजाइन की समस्याओं, समाधानों, विकल्पों, और समीक्षा की तकनीकों के बारे में समझाया जाता है। इसमें डिजाइन की विभिन्न पहलुओं जैसे लाउट डिजाइन, कलर थ्योरी, मटेरियल इंटीरियर्स, लाइटिंग डिजाइन और अंतिम इंटीरियर डिजाइन शामिल होते हैं।

 

इसके साथ ही, इस कोर्स में छात्रों को इंटीरियर डिजाइन की विभिन्न संचालनीय पहलुओं जैसे संसाधनों का प्रबंधन, आर्थिक योजना बनाना, प्रकल्प नियोजन, विपणन और व्यवसाय का प्रबंधन सीखने का अवसर मिलता है।

 

इसके अलावा, इस कोर्स से संबंधित दूसरे विषयों जैसे कि बाजार की भावनाओं, उत्पादों की प्रक्रिया, उद्योग के साथ संबंधित कानूनी मुद्दों, एकीकरण और संयोजन आदि पर भी जानकारी दी जाती है।

 

इसके अलावा, छात्रों को कुछ अतिरिक्त कौशल सीखने का अवसर भी मिलता है जैसे कि कंप्यूटर-एडेड डिजाइन (CAD), डिजाइन सॉफ्टवेयर

बीएससी इंटीरियर डिजाइन कोर्स कई भारतीय विश्वविद्यालयों और कॉलेजों में हिंदी में उपलब्ध होता है। यह कोर्स कुछ संबंधित संस्थानों द्वारा उपलब्ध होता है:

 

राष्ट्रीय संस्कृति संस्थान, नई दिल्ली

जमिया मिलिया इस्लामिया, नई दिल्ली

डिल्ली यूनिवर्सिटी, नई दिल्ली

इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय, नई दिल्ली

जयपुर नेशनल यूनिवर्सिटी, जयपुर

जयपुरिया विद्यापीठ, जयपुर

उत्तराखंड संस्कृत विश्वविद्यालय, हरिद्वार

राजस्थान वेब यूनिवर्सिटी, जयपुर

सिंधिया यूनिवर्सिटी, गवालियर

जीवा जागृति संस्थान, जयपुर

इन संस्थानों के अलावा भी भारत भर में कई विश्वविद्यालयों और कॉलेजों में यह कोर्स उपलब्ध होता है। आप अपने शहर में स्थानीय विश्वविद्यालयों या कॉलेजों की वेबसाइट पर जाकर इसके बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

No comments:

Post a Comment

BA in Animation and Graphic Design