कॉफी क्वॉलिटी मैनेजमेंट में पीजी डिप्लोमा

कॉफी दुनिया के सबसे लोकप्रिय पेय में एक हैं। इसकी लोकप्रियता को बनाए रखने के लिए इसकी गुणवत्ता पर काफी जोर दिया जाता है। ऐसे में कॉफी क्वॉलिटी के क्षेत्र में करियर बनाने के अच्छे मौके भी मिलते हैं।

कॉफी के क्षेत्र में करियर बनाने की इच्छा रखने वालों के लिए भारत के कॉफी बोर्ड ने पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स लॉन्च किया है। इसके छात्रों को भारतीय कॉफी कंपनियों में अच्छी नौकरियों के अवसर मिलते हैं।

कॉफी क्वॉलिटी मैनेजमेंट में पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा (PGDCQM) कोर्स छात्रों को कॉफी टेस्टर्स  के रूप में उनकी क्षमता विकसित करने में मदद करता है।

कोर्स की खास बातें
- यह 12 महीने का कोर्स है जो 3 ट्राइमेस्टर में होता है।

- छात्रों को पहले ट्राइमेस्टर में सीसीआरआई, बलेहोनुर, चिकमंगलूर में रहने की सुविधा मिलती है। दूसरे और तीसरे ट्राइमेस्टर के लिए छात्रों के बेंगलुरु में अपने रहने की व्यवस्था स्वयं करनी होगी।

- दाखिले हर योग्य अभ्यर्थी के लिए खुले हैं। कॉफी इंडस्ट्री के लिए स्पॉन्सर्ड अभ्यर्थियों को भी दाखिले दिए जाएंगे।

- दाखिले अकादमिक रिकॉर्ड, पर्सनल इंटरव्यू और सेंसरी इवैल्यूएशन टेस्ट के आधार पर होंगे।

आखिरी तारीख 
आवेदन करने की आखिरी तारीख 16 अगस्त 2016 है।

योग्यता
उम्मीदवारों को बॉटनी, जूलॉजी, केमिस्ट्री, बायोटेक्नोलॉजी, बायोसाइंस, फूड टेक्नोलॉजी, इन्वायरमेंटल साइंस में ग्रेजुएट या एग्रीकल्चर साइंस में ग्रेजुएट होना चाहिए। ऐसे छात्रों को प्राथमिकता दी जाएगी जिन्हें किसी एक्सपोर्ट कंपनी/क्यूरिंग संस्थान/कॉफी प्लांटेशन से स्पॉन्सरशिप हासिल हो।

प्रक्रिया 
आवेदन वेबसाइट से डाउनलोड या कॉफी बोर्ड, बेंगलुरु से सीधे हासिल किए जा सकते हैं। पूरी तरह से भरा हुआ आवेदन 200 रुपये की डीडी ("कॉफी बोर्ड जनरल फंड नन प्लान अकाउंट" के नाम पर) और 9 इंच X 6 इंच के सेल्फ-एड्रेसेस्ड लिफाफे के साथ 16 अगस्त पहुंचने चाहिए।

इंटरव्यू और चयन की तारीख: 31 अगस्त 2016

कोर्स फी: 2,00,000 रुपये   

Popular posts from this blog

जैव प्रौद्योगिकी में कैरियर

वनस्पति में करियर