फिजिक्स एक्सपर्ट्स

भारत में साइंस के लिए नए दरवाजे लगातार खुलते जा रहे हैं। मेक इन इंडिया, मंगलयान और रक्षा क्षेत्र में किए जा रहे अनुसंधान निरंतर ऐसे वैज्ञानिकों की मांग कर रहे हैं, जो फिजिक्स को गहराई से समझते हों और जिनमें कुछ नया कर दिखाने की ललक हो। इससे पहले भारत को इतने बेहतरीन प्लेटफाॅर्म के तौर पर नहीं देखा जाता था। इस बदलती स्थिति ने फिजिक्स को इस क्षेत्र में रुचि रखने वालों के लिए एक बेहतरीन करियर के रूप में तब्दील कर दिया है। वास्तविकता में फिजिक्स को बेसिक साइंस के रूप में देखा जाता है और अंततः यह साइंस की सभी शाखाओं को किसी न किसी तरह प्रभावित करता ही है। अपनी इस विशेषता की वजह से ही अन्य क्षेत्रों में भी फिजिक्स की समझ रखने वाले विशेषज्ञों की भारी मांग पैदा हो गई है। यही वजह है कि स्पेस इंडस्ट्री से लेकर साइकिल उद्योग तक सभी, लगातार खुद को बेहतर बनाने और उपभोक्ताओं के लिए नए उत्पाद खोज निकालने के लिए फिजिक्स एक्सपर्ट्स की तलाश कर रहे हैं।
क्या पढ़ना होगा
भारत में अब इस विषय को लेकर कई स्पेशलाइज्ड कोर्सेज की शुरुआत की जा चुकी है। इस क्षेत्र में बीएससी इन अप्लाइड फिजिक्स, फिजिकल साइंसेज, फिजिक्स विद अलाइड केमिस्ट्री, फिजिक्स विद अलाइड मैथेमेटिक्स, एमएससी इन अप्लाइड फिजिक्स, एमफिल इन फिजिक्स, बायोफिजिक्स, जियोफिजिक्स, मरीन जियोफिजिक्स, रिन्युएबल एनर्जी, एस्ट्रोफिजिक्स, इंजीनियरिंग फिजिक्स, मेडिकल फिजिक्स, साॅलिड स्टेट फिजिक्स, न्यूक्लियर फिजिक्स एंड टेक्नोलाॅजी, केमिकल थर्माेडायनेमिक्स, काइनेमेटिक्स, मटीरिअॅल साइंसेज, न्यूक्लियर फिजिक्स, फाइबर आॅप्टिकल फिजिक्स, फ्लुइड फिजिक्स, माॅलिक्यूलर फिजिक्स और प्लाज्मा फिजिक्स में स्नातकोतर व पीएचडी करके रिसर्च फील्ड में अच्छे अवसर हासिल किए जा सकते हैं।
यहां से कर सकते हैं पढ़ाई
भारत की लगभग सभी यूनिवर्सिटीज फिजिक्स की पढ़ाई करवाती हैं। इसके अलावा प्रतिभाशाली स्टूडेंट्स के लिए आईआईटीज, टाटा इंस्टीट्यूट आॅफ फंडामेंटल रिसर्च, इंडियन इंस्टीट्यूट आॅफ साइंस, बेंगलुरु और जवाहर लाल नेहरू टेक्नोलाॅजिकल युनिवर्सिटी फिजिक्स की अलग-अलग शाखाओं में विशेषज्ञता हासिल करने में मदद करते हैं।
काम के अवसर
फिजिक्स विशेषज्ञों के लिए यूं तो पूरी दुनिया में ही अवसरों की कमी नहीं है, लेकिन भारत में भी अब बेहतरीन करियर अवसर मौजूद हैं। देश के सरकारी क्षेत्र में भाभा एटॉमिक रिसर्च इंस्टीट्यूट, डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट आॅर्गनाइजेशन और उसकी शाखा साॅलिड स्टेट फिजिक्स लैबोरेट्री, इंडियन स्पेस रिसर्च आॅर्गनाइजेशन, स्पेस एप्लीकेशन सेंटर्स, नेशनल एटमाॅस्फेयरिक रिसर्च लैबोरेट्री, इंटर यूनिवर्सिटी एक्सेलरैटर सेंटर, इंदिरा गांधी सेंटर फाॅर एटाॅमिक रिसर्च, राजा रमन्ना सेंटर आॅफ एंडवास्ड टेक्नोलाॅजी, वेरिएबल एनर्जी साइक्लोट्रोन सेंटर, यूरेनियम कॉर्पोरेशन आॅफ इंडिया लिमिटेड, न्यूक्लियर पावर काॅर्पोरेशन आॅफ इंडिया लिमिटेड, न्यूक्लियर फ्यूल काॅम्प्लेक्स, हेवी वाॅटर बोर्ड और एटाॅमिक मिनरल डायरेक्ट जैसी संस्थाओं को फिजििक्स एक्सपर्ट्स की हमेशा आवश्यकता रहती है।
इसके अलावा शोध संस्थानों - फिजिक्स रिसर्च लैबोरेट्री, इंस्टीट्यूट आॅफ प्लाज्मा रिसर्च, इंटर यूनिवर्सिटी सेंटर फाॅर एस्ट्रोनाॅमी एंड एस्ट्रोफिजिक्स, आर्यभट्ट रिसर्च इंस्टीट्यूट आॅफ आॅब्जर्वेशनल साइंसेज, सेंटर फाॅर लिक्विड क्रिस्टल रिसर्च में शोधार्थी के तौर पर सुनहरे करियर की तलाश की जा सकती है। निजी क्षेत्र में लैबोरेट्रीज और संबंधित संस्थाओं, शैक्षणिक संस्थाओं, कृषि क्षेत्र उपकरण उद्योग, मेडिकल, पावर जनरेटिंग कंपनीज, एविएशन, कंस्ट्रक्शन और पेट्रोलियम क्षेत्र में काम कर रही संस्थाओं में बेहतरीन पैकेज हासिल किया जा सकता है।

Popular posts from this blog

जैव प्रौद्योगिकी में कैरियर

वनस्पति में करियर