बैंकिंग एवं फाइनेंस में हैं अवसर अपार

आज में का इतना विस्तार हो गया है कि वाणिज्यिक और सहकारी बैंकों की 67 हजार से अधिक शाखाएं काम कर रही हैं। ऐसी उम्मीद की जा रही है कि 2040 तक भारत विश्व का तीसरा सबसे बड़ा बन जाएगा। खबर यह है कि साल के अंत तक तकरीबन 40 हजार लोग रिटायर भी हो जाएंगे। 
इनमें हर ग्रेड के कर्मचारियों की मांग है। क्लर्क, पीओ, से लेकर रिलेशनशिप मैनेजर, फील्ड ऑफिसर के लिए विकल्पों की भरमार है। एचडीएफसी बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, एचएसबीसी, कोटक महिंद्रा बैंक जैसे निजी बैंक हैं, वहीं सरकारी बैंकों ने भी युवाओं के लिए ढेरों अवसर तैयार किए हैं।
यही वजह है कि इस क्षेत्र में कुशल प्रोफेशनल्स की मांग बढ़ी है। इसी के मद्देनजर अब सर्टिफिकेट, डिप्लोमा और पीजी डिप्लोमा जैसे कुछ प्रोफेशनल कोर्स भी प्रचलन में आ गए हैं। 
ये कोर्स प्राइवेट बैंकों में कॅरियर की राह आसान तो करते ही है सरकारी बैंकों में भी पीओ, क्लर्क, आरबीआई आफिसर्स की तैयारी कर रहे छात्रों को भी बैंकिंग की बारीकियां जानने का मौका देते हैं। 
प्रवेश प्रक्रिया 
पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन बैंकिंग एंड फाइनेंस के लिए एप्टीटयूट टेस्ट और पर्सनल इंटरव्यू के आधार पर होता है। प्रवेश परीक्षा की अवधि 55 मिनट है। प्रवेश परीक्षा में इंग्लिसश लैंग्वेज, न्यूमैरिकल एबिलिटी, रीजनिंग और बेसिक चेकिंग पर बेस्ड प्रश्न पूछे जाते हैं। फिर बारी आती है इंटरव्यू की। 

इंटरव्यू पास करने के बाद उन्हें इंटर्नशिप, एजुकेशन लोन के साथ प्लेसमेंट की भी सुविधा है। वैसे डिप्लोमा या पीजी कोर्स बैंकिंग या फाइनेंस में करिअर बनाने वालों के लिए एक बेहतरीन प्लेटफार्म हो सकता है। 

योग्यता क्या है? 
बैंकिंग एंड फाइनेंस में डिप्लोमा के लिए योग्यता है 12 वीं पास। यह कोर्स 12 माह का है। पीजी डिप्लोमा इन बैंकिंग एंड फाइनेंस में एडमिशन लेने के लिए 50 प्रतिशत अंकों के साथ स्नातक परीक्षा उत्तीर्ण होना जरूरी है। इसके लिए आयु सीमा है 21-27 वर्ष। 

कौन-कौन से हैं कोर्स ? 
टीकेडब्लूएस इंस्टीट्यूट ऑफ बैंकिंग एंड फाइनेंस के डायरेक्टर अमित गोयल के मुताबिक कोर्स तो कई हैं लेकिन फिलवक्त तीन तरह के कोर्स प्रचलन में हैं डिप्लोमा और पीजी डिप्लोमा इन बैंकिंग एंड फाइनेंस के अलावा छह महीने का कोर्स भी कराया जाता है। 

इस कोर्स का मकसद आधुनिक बैंकिंग, डोमेन टेक्नालॉजी, एप्लीकेशन एंव कस्टमर सर्विस में दक्ष कराना है। यह कोर्स बैंक और कलैरिकल कैडर की तैयारी करने वालों के लिए बेहतर हो सकता है। क्योंकि इस कोर्स के जरिए आपको बैंकों और फाइनेंशियल कंपनियों में करिअर बनाने वालों के लिए बेहतर हो सकता है।

अवसर कहां-कहां हैं? 
अब बैंकिंग में नए नए क्षेत्रों के आगमन से कॅरिअर निर्माण के नए नए अवसर निर्मित होने लगे हैं। ये नए क्षेत्र हैं सरल क्रेडिट, कारपोरेट क्रेडिट, प्रोजेक्ट फाइनेंस और कंज्यूमर क्रेडिट। 30 से अधिक सरकारी और करीबन 50 निजी बैंक व वित्तीय संस्थानों में रोजगार के अवसर उपलब्ध हैं। 

इनमें अमेरिकन एक्सप्रेस बैंक, मैक्स न्यूयार्क लाइफ, आईएनजी वैश्य, टाटा एआईजी, इंडिया बुल्स, बिरला सन लाइफ आदि में फाइनेंशियल मैनेजर, बैंक टेलर्स, बिल एंड अकाउंट कलेक्टर्स, लोन ऑफिसर्स जैसे जॉब पा सकते हैं।

प्लेसमेंट सर्विस 
यहां उम्मीदवारों को रोजगार योजना के तहत प्रवेश दिया जाता है। पार्टनर बैंक द्वारा कोर्स समाप्त होने के बाद इनका ही चयन कर सीधे रोजगार दिया जाता है। इसमें शत-प्रतिशत प्लेसमेंट है। निजी बैंकों और फाइनेंशियल कंपनियों में इनकी खूब डिमांड है।

फीस 
डिप्लोमा इन बैंकिंग एंड फाइनेंस कोर्स की न्यूनतम फीस है 40 हजार रुपए और बैंकिंग ऑपरेशंस में पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा कोर्स की न्यूनतम फीस 50 हजार रुपए और उससे अधिक है। 

शुरुआती सैलरी 
टीकेडब्लूएस इंस्टिट्यूट ऑफ बैंकिंग एंड फाइनेंस के डायरेक्टर अमित गोयल के मुताबिक इन बैंकों में शुरुआती सैलरी 10-15 हजार रुपए प्रतिमाह है। लेकिन तजुर्बे के साथ सैलरी में इजाफा होता रहता है। मल्टीनेशनल वित्त और बैंकिंग सेक्टर में पैकेज लाखों में होती है।

प्रमुख संस्था

1.  इंदिरा गांधी ओपन यूनिवर्सिटी, मैदानगढ़ी, नई दिल्ली
      
2.  गुरु गोविंद सिंह इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी, दिल्ली

3.  टीकेडब्लूएस इंस्टीट्यूट ऑफ बैंकिंग एंड फाइनेंस, नई दिल्ली

4.  अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी, अलीगढ़, उत्तरप्रदेश

Popular posts from this blog

जैव प्रौद्योगिकी में कैरियर

वनस्पति में करियर