Tuesday, August 9, 2022

आयुर्वेदिक डॉक्टर कैसे बने

 बीएएमएस कोर्स का फुल फॉर्म बैचलर ऑफ आयुर्वेद मेडिसिन एंड सर्जरी (BAMS) है| बीएएमएस एक अंडरग्रेजुएट डिग्री प्रोग्राम है जिसे इस तरह से डिज़ाइन किया गया है कि यह छात्रों को आधुनिक चिकित्सा विज्ञान और पारंपरिक दवाओं की एकीकृत अवधारणा से परिचित कराता है, यानी यह आयुर्वेद पर केंद्रित है| इंटर्नशिप सहित बैचलर ऑफ आयुर्वेदिक मेडिसिन एंड सर्जरी की अवधि 5.5 वर्ष है| विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा आयुर्वेद जैसी पारंपरिक चिकित्सा प्रणालियों को बढ़ावा देने के लिए एक विश्वव्यापी मंच प्रदान किया गया है|

फॉर्म बैचलर ऑफ आयुर्वेदिक मेडिसिन एंड सर्जरी (BAMS) एमबीबीएस के अलावा चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में सबसे लोकप्रिय पाठ्यक्रमों में से एक है| कॉलेज जैसे: डॉ डी वाई पाटिल नवी मुंबई, जीजीएसआईपीयू दिल्ली, बीवीपी पुणे भारत के शीर्ष कॉलेज हैं जो बीएएमएस की पेशकश के लिए लोकप्रिय हैं| फॉर्म बैचलर ऑफ आयुर्वेदिक मेडिसिन एंड सर्जरी (BAMS) स्नातकों के लिए रोजगार के क्षेत्रों में आयुर्वेदिक रिज़ॉर्ट, नैदानिक परीक्षण, औषधालय, सरकारी/निजी अस्पताल, हेल्थकेयर समुदाय और हेल्थकेयर आईटी शामिल हैं|

बीएएमएस स्नातकों के शीर्ष भर्तीकर्ता पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड, डाबर, हिमालय ड्रग कंपनी, इमामी लिमिटेड, बैद्यनाथ और झंडू फार्मास्यूटिकल्स वर्क्स लिमिटेड हैं| फॉर्म बैचलर ऑफ आयुर्वेदिक मेडिसिन एंड सर्जरी (BAMS) स्नातकों का वार्षिक वेतन 3,00,000 से 8,00,000 रूपये तक होता है| इस लेख में इच्छुक उम्मीदवारों की जानकारी के लिए बैचलर ऑफ आयुर्वेद मेडिसिन एंड सर्जरी (BAMS) पात्रता, प्रवेश प्रक्रिया, पाठ्यक्रम और करियर की संभावनाओं का उल्लेख किया गया है

बीएएमएस क्या है?

1. बैचलर ऑफ आयुर्वेद, मेडिसिन एंड सर्जरी (BAMS) पाठ्यक्रम आधुनिक चिकित्सा के साथ-साथ रोग के आयुर्वेदिक उपचार पर केंद्रित है|

2. आयुर्वेद की जड़ें वैदिक काल से हैं| यह पूरी तरह से जड़ी-बूटियों के अद्भुत गुणों पर आधारित है और इसकी दवाएं प्राकृतिक तत्वों की सामग्री के लिए प्रसिद्ध हैं|

3. आयुर्वेद ने भारत में बहुत प्रमुखता प्राप्त की है क्योंकि इसे रोगों के उपचार के लिए वैकल्पिक पद्धति के रूप में माना जाता है|

4. ऐसी कई बीमारियां हैं जिनका इलाज केवल पाश्चात्य चिकित्सा पद्धति से नहीं किया जाता है| लेकिन आयुर्वेद की मदद से कई बीमारियां बिना किसी साइड इफेक्ट के ठीक हो जाती हैं|

5. अनिवार्य विषयों के रूप में भौतिकी, रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान के साथ बीएएमएस में प्रवेश पाने के लिए न्यूनतम शैक्षणिक आवश्यकता 10 + 2 है|

6. बैचलर ऑफ आयुर्वेद, मेडिसिन एंड सर्जरी (BAMS) के पाठ्यक्रमों में प्रवेश नीट परीक्षा में उम्मीदवारों द्वारा प्राप्त अंकों के आधार पर होता है|

7. हालाँकि, भारत में कुछ कॉलेज मौजूद हैं जहाँ बैचलर ऑफ आयुर्वेदिक मेडिसिन एंड सर्जरी कोर्स में प्रवेश नीट स्कोर कार्ड के बिना भी होता है|

8. बैचलर ऑफ आयुर्वेद, मेडिसिन एंड सर्जरी (BAMS) कोर्स पूरा करने के बाद एक छात्र के लिए बहुत सारे विकल्प उपलब्ध होते हैं| उन्हें कई क्षेत्रों में नौकरी मिल सकती है|

9. बैचलर ऑफ आयुर्वेदिक मेडिसिन एंड सर्जरी ग्रेजुएट का औसत वेतन सरकारी क्षेत्र में 20,000 रुपये से 80,000 रुपये प्रति माह और निजी क्षेत्र में 20,000 रुपये से 50,000 रुपये प्रति माह है|

बीएएमएस कोर्स क्यों?

1. बैचलर ऑफ आयुर्वेद, मेडिसिन एंड सर्जरी (BAMS) का कोर्स दुनिया भर में स्वीकार किया जाता है| डॉक्टर और वैज्ञानिक मरीजों की बीमारियों और बीमारियों के इलाज के लिए वैकल्पिक और पारंपरिक दवाओं को खोजने में रुचि रखते हैं|

2. आयुर्वेद उपचार के प्राचीन और पारंपरिक तरीकों में से एक है| इसलिए, इस क्षेत्र में कई स्कोप हैं|

बीएएमएस किसे करना चाहिए?

1. मेडिकल साइंस और पारंपरिक आयुर्वेद के एकीकृत अध्ययन में रुचि रखने वाले छात्र इस क्षेत्र में आगे बढ़ने के लिए बीएएमएस डिग्री कोर्स कर सकते हैं|

2. छात्रों को अपना 10+2 किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से भौतिकी, रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान के साथ पूरा करना चाहिए था|

3. जो छात्र रोगों के उपचार के वैकल्पिक तरीकों को खोजने में रुचि रखते हैं|

बीएएमएस कब करें?

1. किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 12वीं बोर्ड परीक्षाओं के ठीक बाद: भौतिकी, रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान विषयों के साथ, छात्र बीएएमएस पाठ्यक्रम के लिए आवेदन कर सकते हैं|

2. नीट परीक्षा में शामिल होने और आवश्यक कट-ऑफ अंक प्राप्त करने के बाद, छात्र भारत के सरकारी कॉलेजों में बैचलर ऑफ आयुर्वेदिक मेडिसिन एंड सर्जरी की पेशकश कर सकते हैं|

3. कुछ निजी कॉलेज बीएएमएस पाठ्यक्रम में छात्रों को प्रवेश दिलाने के लिए नीट को एक महत्वपूर्ण परीक्षा नहीं मानते हैं, जबकि कुछ स्वयं प्रवेश परीक्षा आयोजित करते हैं या योग्यता-आधारित अंकों के आधार पर उम्मीदवारों का चयन करने पर विचार करते हैं|

क्या बीएएमएस एमबीबीएस से बेहतर है?

इस पर विचार किया जाना चाहिए क्योंकि एमबीबीएस करने से कई बीमारियों में विशेषज्ञता और रोगियों का इलाज करने या यहां तक कि एक में विशेषज्ञता के द्वारा अधिक करियर विकल्प खुलेंगे| दूसरी ओर, यदि आप बीएएमएस का अनुसरण करते हैं, तो आप केवल आयुर्वेद से इलाज कर पाएंगे, और केवल प्रारंभिक स्तर पर|

बीएएमएस प्रवेश प्रक्रिया

1. नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट (NEET) बैचलर ऑफ आयुर्वेदिक मेडिसिन एंड सर्जरी में छात्रों के चयन का आधार है|

2. भारत में, बैचलर ऑफ आयुर्वेद, मेडिसिन एंड सर्जरी (BAMS) कोर्स सहित कई मेडिकल कोर्स में प्रवेश के लिए नीट अनिवार्य है|

3. नीट परीक्षा के बाद आयोजित केंद्रीकृत काउंसलिंग में मेडिकल साइंस के विभिन्न पाठ्यक्रमों में नीट उत्तीर्ण छात्रों को प्रवेश परीक्षा यानी नीट में उनके प्रदर्शन के अनुसार प्रवेश दिया जाता है|

4. बैचलर ऑफ आयुर्वेदिक मेडिसिन एंड सर्जरी में छात्रों को प्रवेश देने के लिए विभिन्न कॉलेजों द्वारा साक्षात्कार भी किए जाते हैं|

बीएएमएस में प्रवेश कैसे पायें

भारत में, बैचलर ऑफ आयुर्वेद मेडिसिन एंड सर्जरी (BAMS) के पाठ्यक्रम में प्रवेश पाने के लिए छात्रों को जिन प्रवेश प्रक्रिया का पालन करना चाहिए, वे इस प्रकार हैं, जैसे-

1. बीएएमएस कोर्स में प्रवेश मुख्य रूप से प्रवेश परीक्षाओं के माध्यम से किया जाता है|

2. नीट-यूजी वह परीक्षा है जिसमें बीएएमएस के उम्मीदवारों को बैचलर ऑफ आयुर्वेदिक मेडिसिन एंड सर्जरी में प्रवेश पाने के लिए अर्हता प्राप्त करनी होती है|

बीएएमएस पात्रता मानदंड क्या है?

बैचलर ऑफ आयुर्वेद मेडिसिन एंड सर्जरी (BAMS) पाठ्यक्रम में आवेदन करने के लिए न्यूनतम पात्रता मानदंड इस प्रकार हैं, जैसे-

1. उम्मीदवारों को किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से अपनी 10+2 या समकक्ष परीक्षा में न्यूनतम 50% -60% होना चाहिए|

2. 10+2 में न्यूनतम आवश्यक स्कोर भारत में मौजूद विभिन्न संस्थानों के अनुसार भिन्न हो सकता है|

3. 12वीं बोर्ड परीक्षाओं में उम्मीदवारों के पास मुख्य विषय के रूप में भौतिकी, रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान होना चाहिए|

4. सामान्य वर्ग से नीट परीक्षा में बैठने वाले उम्मीदवारों के लिए ऊपरी आयु सीमा 20 वर्ष है| वहीं, आरक्षित वर्ग को 4 साल की छूट दी गई है|

बीएएमएस प्रवेश परीक्षाएं

नीट प्रवेश परीक्षा बीएएमएस पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए सबसे स्वीकृत प्रवेश परीक्षा है| बीएएमएस के लिए राज्य सरकार के कॉलेज में प्रवेश लेने के लिए कुछ राज्य स्तरीय परीक्षाएं भी होती हैं| इन परीक्षाओं के नाम इस प्रकार हैं, जैसे-

1. NEET-UG (नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट)| परीक्षा की अधिक जानकारी के लिए यहाँ पढ़ें- नीट परीक्षा पात्रता मानदंड, आवेदन और प्रवेश प्रक्रिया

2. OJEE (ओडिशा संयुक्त प्रवेश परीक्षा)

3. KEAM (केरल इंजीनियरिंग, कृषि और चिकित्सा)

4. GCET (गोवा कॉमन एंट्रेंस टेस्ट)

5. BVP-CET (भारती विद्यापीठ कॉमन एंट्रेंस टेस्ट)| परीक्षा की अधिक जानकारी के लिए यहाँ पढ़ें- बीवीपी सीईटी परीक्षा योग्यता, आवेदन, सिलेबस, पैटर्न, परिणाम

6. IPU-CET (इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी कॉमन एंट्रेंस टेस्ट)| परीक्षा की अधिक जानकारी के लिए यहाँ पढ़ें- आईपीयू सीईटी परीक्षा योग्यता, आवेदन, सिलेबस, पैटर्न, परिणाम

उम्मीदवारों का चयन अंतिम योग्यता के आधार पर किया जाता है| अर्हक परीक्षा में प्राप्त कुल अंकों के योग को 10+2 और प्रवेश परीक्षा के अंकों के योग की गणना करके अंतिम मेरिट सूची तैयार की जाती है|

बीएएमएस पाठ्यक्रम संरचना

1. बीएएमएस आयुर्वेदिक अध्ययन में एक स्नातक डिग्री प्रोग्राम है।

2. बैचलर ऑफ आयुर्वेद मेडिसिन एंड सर्जरी (BAMS) कोर्स पूरा करने की अवधि 5 वर्ष 6 महीने है।

बीएएमएस पाठ्यक्रम

1. बैचलर ऑफ आयुर्वेदिक मेडिसिन एंड सर्जरी (बीएएमएस) पाठ्यक्रम में विषयों की एक विस्तृत श्रृंखला शामिल है|

2. यह पूरी तरह से एक एकीकृत पाठ्यक्रम है जिसमें छात्रों को आधुनिक चिकित्सा के साथ-साथ आयुर्वेद जैसी पारंपरिक चिकित्सा की मदद से किसी बीमारी का इलाज करना सिखाया जाता है|

3. सेंट्रल काउंसिल ऑफ इंडियन मेडिसिन के अनुसार बैचलर ऑफ आयुर्वेद मेडिसिन एंड सर्जरी (BAMS) कोर्स को चार प्रोफेशनल कोर्स में बांटा गया है|

4. चार व्यावसायिक पाठ्यक्रमों में विभिन्न विषयों को नीचे सारणीबद्ध किया गया है, जैसे-

बीएएमएस विशेषज्ञता

बैचलर ऑफ आयुर्वेद एक विशाल क्षेत्र है और यह पाठ्यक्रम क्षेत्र में विभिन्न विशेषज्ञता प्रदान करता है, उनमें से कुछ नीचे सूचीबद्ध हैं, जैसे-

पादार्थ विज्ञान, शरिर रचना, शारिर क्रिया, स्वस्थवृत्ति, रस शास्त्र, अगड़ तंत्र, रोग और विकृति विज्ञान, चरक संहिता, प्रसूति और स्त्री रोग, कौमारभृत्य, कायाचिकित्सा, शल्य तंत्र, शालाक्य तंत्र और चरक संहिता आदि प्रमुख है|

बीएएमएस स्कोप

1. आयुर्वेद में बीएएमएस एक विशाल क्षेत्र होने के कारण उम्मीदवारों के लिए व्यापक क्षेत्र प्रदान करता है|

2. बीएएमएस स्नातक आयुर्वेदिक चिकित्सक के रूप में अपना चिकित्सा करियर शुरू कर सकते हैं या यहां तक कि वे आयुर्वेद में पीएचडी और एमडी पाठ्यक्रम भी कर सकते हैं|

3. एमडी कोर्स की अवधि 3 साल है और इसकी औसत फीस 20,000 रुपये से 10,00,000 रुपये है|

शीर्ष भर्तीकर्ता

बैचलर ऑफ आयुर्वेद स्नातकों के शीर्ष भर्तीकर्ता नीचे सूचीबद्ध हैं, जैसे-

पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड, डाबर इंडिया लिमिटेड, बैद्य नाथो, हमदर्द प्रयोगशालाएं, झंडे आयुर्वेद, हिमालय वेलनेस, सूर्या हर्बल लिमिटेड, विकॉन लेबोरेटरीज, चरक फार्मा प्राइवेट लिमिटेड, सैंडे फार्मास्युटिकल्स लिमिटेड
नरूला और एम्मी लिमिटेड आदि कम्पनियां प्रमुख है|

आयुर्वेदिक चिकित्सक, आयुर्वेदिक चिकित्सक, व्याख्याता, चिकित्सक, व्यवसाय विकास कार्यकारी, बिक्री प्रतिनिधि, फार्मेसिस्ट, नैदानिक परीक्षण समन्वयक, मेडिकल अधिकारी, वैज्ञानिक और अनुसंधान सहायक आदि प्रमुख है, कुछ का विवरण इस प्रकार है, जैसे-

चिकित्सक: छात्रों को अपना नैदानिक अभ्यास शुरू करने से पहले, प्रासंगिक अनुभव प्राप्त करने के लिए हमेशा कुछ वरिष्ठ चिकित्सकों के अधीन काम करने की सलाह दी जाती है| एक चिकित्सक के अधीन नियमित व्यायाम के साथ, छात्र पूर्ण ज्ञान प्राप्त करने के बाद विशेष अभ्यास (जैसे रीढ़ की हड्डी के विकारों, त्वचा रोगों आदि के लिए उपचार) का विकल्प चुन सकते हैं|

शिक्षक: यदि कोई छात्र शिक्षण में अपना करियर बनाना चाहता है, तो स्नातकोत्तर पूरा करना आवश्यक हो जाता है| स्नातकोत्तर के लिए, छात्र अपनी पसंद के किसी भी विषय में एमडी या स्नातकोत्तर डिप्लोमा करने का विकल्प चुन सकते हैं| एक बार छात्रों के पास स्नातकोत्तर की डिग्री होने के बाद, वे व्याख्याता के रूप में किसी भी सरकारी या निजी कॉलेज में शामिल हो सकते हैं|

प्रबंधक: जो छात्र प्रबंधन में प्रवेश करना चाहते हैं, वे मास्टर्स इन पब्लिक हेल्थ (एमपीएच), मास्टर्स इन हेल्थ एडमिनिस्ट्रेशन (एमएचए), और एमबीए इन हॉस्पिटल एंड हेल्थकेयर मैनेजमेंट जैसे कोर्स कर सकते हैं| इस तरह के पाठ्यक्रम बहुत मांग में हैं और छात्रों के लिए रोजगार के आशाजनक अवसर प्रदान करते हैं|

क्लिनिकल रिसर्च एसोसिएट: इन दिनों, कई विश्वविद्यालयों में क्लिनिकल रिसर्च में अलग-अलग पोस्टग्रेजुएट कोर्स हैं| छात्र अन्य फार्मास्युटिकल कंपनियों की अनुसंधान इकाइयों में क्लिनिकल रिसर्च एसोसिएट के रूप में नौकरी पाने के लिए ऐसे पाठ्यक्रमों का अनुसरण कर सकते हैं|

दवा निर्माता: आयुर्वेद दवाओं और सौंदर्य प्रसाधन जैसे संबंधित उत्पादों का निर्माण इन दिनों एक फलता-फूलता व्यवसाय है| इस क्षेत्र में करियर बनाने के लिए छात्र बीएएमएस कोर्स पूरा करने के बाद फार्मास्युटिकल मेडिसिन में एमएससी और हर्बल मेडिसिनल मैन्युफैक्चरिंग में डिप्लोमा जैसे कोर्स कर सकते हैं|

स्वास्थ्य पर्यवेक्षक / चिकित्सक: कई अंतरराष्ट्रीय पर्यटक भारत भर में स्वास्थ्य रिसॉर्ट्स और स्पा केंद्रों में प्राकृतिक आयुर्वेद उपचार लेने की ओर देखते हैं| पर्यटक आमतौर पर गठिया, मोटापा, माइग्रेन, समय से पहले बुढ़ापा, त्वचा रोग, उच्च कोलेस्ट्रॉल और मधुमेह के लिए प्राकृतिक उपचार पसंद करते हैं| बीएएमएस छात्र विभिन्न होटलों और रिसॉर्ट के ऐसे स्वास्थ्य केंद्रों में पर्यवेक्षक के रूप में काम करने का विकल्प चुन सकते हैं| छात्र अपना स्वास्थ्य केंद्र भी खोल सकते हैं|

चिकित्सा पर्यवेक्षक: इस विकल्प में आयुर्वेद दवाएं तैयार करने वाली कंपनियों में चिकित्सा पर्यवेक्षक के रूप में काम करना शामिल है|

जब भर्ती की बात आती है, तो सरकारी और निजी अस्पताल बीएएमएस स्नातकों के लिए प्रमुख भर्तीकर्ता होते हैं| हालांकि, शीर्ष भर्तीकर्ता जो अस्पतालों के अलावा आयुर्वेद चिकित्सकों को नौकरी की पेशकश करते हैं, उनका हम उल्लेख नीचे उपरोक्त लेख में कर चुके है|

बीएएमएस के बाद वेतन

1. बीएएमएस स्नातकों का वेतन 4,00,000 से INR 12,00,000 रूपये के बीच होता है।

2. सरकारी संगठनों में, बीएएमएस स्नातकों को अच्छी तरह से भुगतान किया जाता है, लेकिन निजी क्षेत्र में बीएएमएस स्नातकों का वेतन पूरी तरह से कंपनी पर निर्भर करता है और यह 4,00,000 रुपये से 8,00,000 रुपये के बीच होता है|

3. वेतन किसी के कौशल, क्षेत्र में अनुभव, जॉब प्रोफाइल आदि पर निर्भर करता है|

4. नीचे वेतन डेटा के बारे में विस्तृत जानकारी दी गई है| अनुभव और नौकरी प्रोफ़ाइल के अनुसार है, जैसे

बीएएमएस कोर्स वाले शीर्ष संस्थान

बैचलर ऑफ आयुर्वेद पाठ्यक्रम के लिए भारत में लगाए गए औसत शिक्षण शुल्क में 3,000 (सरकारी संस्थान) से 12 लाख (निजी संस्थान) के बीच है| भारत में कुछ शीर्ष संस्थान नीचे सूचीबद्ध हैं, जो पाठ्यक्रम प्रदान करते हैं, जैसे –

1. बाबा फरीद विश्वविद्यालय स्वास्थ्य विज्ञान फरीदकोट, पंजाब

2. स्वास्थ्य विज्ञान के महाराष्ट्र विश्वविद्यालय नासिक, महाराष्ट्र

3. डॉ. सर्वेपल्ली राधाकृष्णन राजस्थान आयुर्वेद यूनिवर्सिटी, जोधपुर

4. कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय, कुरुक्षेत्र

5. भारती विद्यापिठ विश्वविद्यालय पुणे, महाराष्ट्र

6. बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी वाराणसी, उत्तर प्रदेश

7. आयुष और स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय रायपुर, छत्तीसगढ़

8. मानसरोवर आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज, भोपाल

9. देश भगत विश्वविद्यालय गोबिंदगढ़, पंजाब

10. गुजरात आयुर्वेदिक विश्वविद्यालय जामनगर, गुजरात


No comments:

Post a Comment

BA in Animation and Graphic Design